May 18, 2022

कोरोना लॉकडाउन: पशु पक्षियों का एक बुरा दौर

The News Waves की 15 मई 2020 की एक रिपोर्ट के अनुसार लॉक डाउन की वजह से पशु पक्षी भी एक बुरे दौर से गुजर रहे है।

“रोजाना 20 से 25 पक्षी जिनमे कबूतर ज्यादा है, चांदनी चौक स्थित चैरिटी बर्ड अस्पताल पहुँच रहे है। यह सारे पक्षी किसी न किसी प्रकार से दुर्घटना के शिकार हो रहे है जैंसे पतंगों के मांझे से, कुत्ते बिल्लियों के शिकार से, भूख तथा प्यास से।”

TheNewsWaves.in

The News Waves ने अपनी रिपोर्ट में यह भी बताया की क्या कारण है पक्षियों की दुर्घटना के तथा हम सभी क्या कुछ कदम उठा सकते है उनकी सुरक्षा की दृष्टी से।

इन्फेक्शन तथा दुर्घटना के कारण

पक्षियों को जहाँ दाना पानी दिया जाता है वहा अक्सर बहुत गन्दगी हो जाती है और और फिर वहाँ पर दाना खा कर पक्षी बीमार होने लगते है।

लोग पक्षियों के लिए पानी तो रखते है परन्तु बहुत बार लोग पानी का बर्तन साफ़ नहीं कर पाते और फिर उस गंदे बर्तन में पानी पी कर कबूतर और बाकी पक्षी इन्फेक्शन के शिकार हो जाते है और बीमारी की हालत में अस्पताल लाए जाते है।

आजकल पक्षयो को दाना और पानी उचित मात्रा में प्राप्त नहीं हो रहा और इस कारण वह कमजोर हो गए है तथा उड़ने में असमर्थ है। कई बार उड़ते उड़ते पक्षी गिर जाते है और फिर कुत्ते या बिल्ली या किसी अन्य जानवर का शिकार बन रहे है।

लॉक डाउन के दौर में लोग अपना समय व्यतीत करने के लिए पतंगे उड़ा रहे है परन्तु यह पतंगे भी पक्षियों के कटने का कारण बन रहे है। कई पक्षी इन पतंगों के मंझो में टकरा कर कट जाते है। इसमें से कुछ तो अच्छे लोगो की वजह से अस्पताल पहुंचा दिए जाते हे परन्तु बहुत से पक्षी तो निचे गिरते ही जानवरों जैंसे कुत्ते या बिल्ली का शिकार बन रहे है।

TheNewsWaves.in

क्या करे इन्हें बचाने के लिए ?

पतंगे एक मात्र साधन नहीं है समय व्यतीत करने का, और ऐंसे किसी भी खेल को न खेले जिसके कारण प्रकृति, पशु, पक्षियों, मनुष्यों या किसी अन्य को कोई भी हानि हो। उचित रहेगा कि आप पतंगे न उडाए।

जो लोग निचे ग्राउंड फ्लोर पर रहते है वह लोग पशुओ के लिए खाना व पानी की व्यवस्था कर सकते है।

जो लोग सबसे ऊपर के फ्लोर पर रहते है वह लोग पक्षियों के लिए दाना व पानी की व्यवस्था कर सकते है

जो लोग बीच के फ्लोर पर रहते है वह अपनी बालकनी में पक्षियों के लिए दाना व पानी की पूर्ती कर सकते है

पशुओ और पक्षियों के भोजन व पानी के बर्तन समय समय पर साफ़ होने चाहिये वरना उनको हमारे द्वारा दिया गया पानी और भोजन ही उनकी जान ले लेगा।

कोशिस करे अपने आस पास उचित मात्रा तथा जितने संभव हो सके पेड व पोधे लगाए। ऐंसा करने से बहुत से पशु पक्षियों को आश्रय (रहने को घर मिलेगा) प्राप्त होगा। एक पेड लगा कर आप बहुत से पक्षियों तथा जीवो को घर प्रदान करते है। इसलिए हमेशा पेड पौधे लगाते रहे तथा उनकी उचित देखभाल भी करते रहे।

AC का प्रयोग बहुत जरुरी होने पर ही करे। संभव हो तो कूलर इस्तेमाल करे। हम अपने घर तो ठन्डे कर रहे है परन्तु जो पशु पक्षी बाहर खुले वातावरण में रहते है उनके इस वातावरण को हम दिन प्रतिदिन गर्म करते जा रहे है।

किसी भी घायल पशु या पक्षी को देखते ही पशु पक्षियों के अस्पताल को बिना देरी किये सूचित करे। अगर आप घायल पशु या पक्षी को जानवरों के अस्पताल स्वयं लेकर जा सकते है तो यह उत्तम होगा। अपने पास हमेशा आपात स्तिथि के लिए जानवरों के अस्पताल, अग्निशमन केंद्र, पुलिस, एम्बुलेंस आदि का नंबर मोबाइल में सर्वदा रखे।

TheNewsWaves.in

1 thought on “कोरोना लॉकडाउन: पशु पक्षियों का एक बुरा दौर

Leave a Reply

Your email address will not be published.